Articles

service1
जानिए क्यों कामख्या देवी ने नरकासुर का वध किया ????????

कामाख्या के बारे में किंवदंती है कि घमंड में चूर असुरराज नरकासुर एक दिन मां भगवती कामाख्या को अपनी पत्नी...

service1
क्यों गुहावटी के कामख्या देवी मंदिर में साल के 3 दिन मंदिर के गेट बंद होते है..??

महान अंबुबाची मेला, जो प्रजनन समारोह के रूप में भी जाना जाता है, असम में गुवाहाटी के कामख्या देवी मंदिर...

service1
पुष्पक विमान के अदभुत रहस्य

पुष्पक विमान एक ऐसा चमत्कारिक यात्री-विमान था, जिसमें चाहे जितने भी यात्रीसवार हो जाएं, एक कुर्सी हमेशा रिक्त रहती थी।...

service1
सप्त ऋषि : भारत के महान सात संत

आकाश में सात तारों का एक मंडल नजर आता है उन्हें सप्तर्षियों का मंडल कहा जाता है। उक्त मंडल के...

service1
क्यों चढ़ाते है शनि देव को तेल, क्या रखे सावधानी?

प्राचीन मान्यता है की शनि देव की कृपा प्राप्त करने के लिए हर शनिवार को शनि देव को तेल चढ़ाना चाहिए।...

service1
माँ दुर्गा के नौ रूपों की जानकारी

माँ दुर्गा अपने 9 दिनों के नवरात्री महोत्सव में अपने 9 रूपों के लिए जानी जाती है और दुनिया भर में अपने भक्तो...

service1
भगवान विष्णु के दस अवतार

1.  मत्स्य अवतार - मछली के रूप में ब्रम्हांड की आवधिक विघटन के प्रलय के ठीक पहले जब प्रजापति ब्रह्मा के मुँह...

service1
ब्रह्म मुहूर्त का समय और महत्व, जानिए…

24 घंटे में 30 मुहूर्त होते हैं। ब्रह्म मुहूर्त रा‍त्रि का चौथा प्रहर होता है। सूर्योदय के पूर्व के प्रहर...

service1
शिव क्यों खाते हैं भांग-धतूरा और बेलपत्र का महत्व

भगवान शिव के बारे में एक बात प्रसिद्ध है कि वे भांग और धतूरे जैसी नशीली चीजों का सेवन करते...

service1
वेद और शूद्र

ऋग्वेद - सबसे प्राचीन वेद - ज्ञान हेतु लगभग १० हजार मंत्र। इसमें देवताओं के गुणों का वर्णन और प्रकाश के...

service1
शिवलिंग पर दूध क्यों चढ़ाया जाता है

1. भगवान शिव को विश्वास का प्रतीक माना गया है क्योंकि उनका अपना चरित्र अनेक विरोधाभासों से भरा हुआ है जैसे...

service1
पौराणिक ग्रंथों के अनुसार समुद्र मंथन से 14 रत्न प्राप्त हुए। इन्हीं रत्नों में से एक हैं शंख।

वहीं विष्णु पुराण में शंख को माता लक्ष्मी का सहोदर भाई भी बताया गया है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार सृष्टि...

service1
तिलक का महत्व:-

इसके पीछे आध्यात्मिक महत्व है। दरअसल, हमारे शरीर में सात सूक्ष्म ऊर्जा केंद्र होते हैं, जो अपार शक्ति के भंडार...

service1
आइये जाने घर में बाँसुरी रखना क्यों शुभ है:-

1. भवन में जहां कहीं भी दोष हो, वहां बांसुरी का उपयोग दोष दूर कर देता है। पर यहां ध्यान...

service1
नारियल का महत्व:- स्त्रियां कभी नारियल क्यों नहीं फोड़ती हैं आइये जाने इसका कारण

नारियल को हिन्दू धर्म में एक शुभ फल माना जाता है, अक्सर लोग किसी काम की नींव रखते हैं तो...

service1
काले तिल के ये उपाय करने से दूर होता है दुर्भाग्य।

कार्यों में आ रही परेशानियों और दुर्भाग्य को दूर करने के लिए ज्योतिष में कई उपाय बताए गए हैं। ये...

service1
सनातन धर्म के 16 संस्कार

आज सनातन धर्म में 16 प्रमुख संस्कार होते हैं।प्राचीन काल में संस्कारों की संख्या 40 होती थी।सनातन अथवा हिन्दू धर्म...

service1
समुद्र मंथन और महान रहस्य

सागर मंथन हिन्दू धर्म से संबंधित लगभग सभी लोग समुद्र मंथन की कथा को जानते हैं। यह कथा समुद्र से...

service1
कुरुक्षेत्र को ही क्यों चुना श्री कृष्ण ने महाभारत के युद्ध के लिए 

श्री कृष्ण ने ही चुना था कुरूक्षेत्र को महाभारत के युद्ध के लिए कुरुक्षेत्र को महाभारत के युद्ध के लिए...

service1
होली क्यों मनाई जाती है ,होली का महत्त्व

शिव पुराण के अनुसार, हिमालय की पुत्री पार्वती शिव से विवाह हेतु कठोर तप कर रही थीं और शिव भी...

service1
होली की रात को किए जाने वाले कुछ ज्योतिष उपाय

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा यानी की होली के दिन किए गए उपाय बहुत ही जल्दी शुभ फल...

service1
शादी में आ रही है रुकावट तो देव उठनी एकादशी को जरूर करें

कार्तिक एकादशी (11 नवंबर 2016) को देवोत्थान या देवउठान मनाने का प्रचलन पौराणिक काल से ही चला आ रहा है।...

service1
आइये जानते है कौन सी धातु के बर्तन में भोजन करने से क्या क्या लाभ और हानि होती है

1) सोना सोना एक गर्म धातु है। सोने से बने पात्र में भोजन बनाने और करने से शरीर के आन्तरिक...

service1
किसे कहते हैं पंचक

ज्योतिष शास्त्र में पांच नक्षत्रों के समूह को पंचक कहते हैं। ये नक्षत्र हैं धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद...

service1
मंत्र तो हम सभी जपते है लेकिन अगर कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो वे मंत्र हमारे लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं-

जप तीन प्रकार का होता है-: 1) वाचिक, उपांशु और मानसिक वाचिक जप धीरे-धीरे बोलकर होता है उपांशु-जप इस प्रकार...